समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

बुधवार, 31 जुलाई 2013

कुण्डली छंद...सपने ...डा श्याम गुप्त ....

सपने का संसार  तो है अद्भुत संसार,
कभी ये सपने टूटते, कभी हुए साकार|
कभी हुए साकार, झूठ सच समझ  न आये ,
व्यर्थ शेखचिल्ली से सपने मन नहीं लाये |
टूटें तो दुःख देयं, स्वप्न  कब होते अपने,
पर देखे बिन श्याम' होयं कब पूरे सपने ||

9 टिप्‍पणियां:

  1. सपने बुनते बीतता, जीवन का हर साल
    वर्तमान ही सत्य है , सपने मायाजाल
    सपने मायाजाल , जाग कर सपने देखें
    निर्धारित कर लक्ष्य, दूर तक नजरें फेकें
    रह जाओ ना कहीं , कुछ अहसास ही चुनते
    जीवन का हर साल , बीतता सपने बुनते ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. छुपा हुआ हर पंक्ति में, सारा जीवन सार
    जिसने बाँधे सेतु खुद , वो ही उतरे पार
    वो ही उतरे पार , स्वप्न से रिश्ते अच्छे
    सपने झूठे होयँ , किंतु हैं रिश्ते सच्चे
    चयन करें क्या ठीक,देख मधुरस औ' महुआ
    सारा जीवन सार, हर पंक्ति में छुपा हुआ.

    उत्तर देंहटाएं
  3. कहते हैं सब सृष्टि है , ब्रम्हा जी का स्वप्न
    सृष्टि का ही अंश मैं, मैं क्या ? हल हो प्रश्न
    मैं क्या ? हल हो प्रश्न, गुणी ज्ञानी बतलायें
    क्यों चुभते हैं स्वप्न , मुझे इतना समझायें
    भीगी आँखें भली , न भाते आँसू बहते
    ब्रम्हा जी का स्वप्न , सृष्टि है सब हैं कहते ||

    उत्तर देंहटाएं
  4. नाना विधि आगम निगम, करें व्याख्या श्याम |
    अगर सफलता चाहिए, देख स्वप्न अविराम |
    देख स्वप्न अविराम, तदनु उद्योग जरुरी |
    भली करेंगे राम, कामना करते पूरी |
    सपनों का संसार, मधुर है ताना बाना |
    इसीलिए अधिकार, सभी का है सपनाना ||

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह वाह क्या सजा है सपनों का संसार,
    रविकर निगम करें यथा कुण्डलिया साकार |
    कुण्डलिया साकार करें व्याख्या यूं बहुविधि,
    सपने देखें मधुर करें उद्योग विविधि-विधि|
    करिये श्रम विधि भांति,यदि हो उन्नति की चाह,
    केवल यूं न प्रसन्न हों, सुन्दर सपना वाह |




    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

    उत्तर देंहटाएं