समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

गुरुवार, 18 जुलाई 2013

नीति कुंडलियां ...... डा श्याम गुप्त ....

                 कवि  गोष्ठी
गोष्ठी कवियन  की सदा, बहुविधि है सुखधाम,
कला अर्थ अरु भाव की,व्याख्या सुखद ललाम |
व्याख्या सुखद ललाम,विविधि रस कविता सोहे,
रचना  नित्य  नवीन,  सभी के मन को मोहे |
धर्म  नीति साहित्य, विविध चर्चा संगोष्ठी,
श्याम ' सुहानी सफल ,सदा ही ये कवि  गोष्ठी ||


             आलोचना                
 अपनी जो आलोचना, सुनै नहीं चित लाय ,
शान्ति भंग चित की करे, श्याम रोष आजाय |
श्याम रोष आजाय, वो अभिमानी अज्ञानी,
सुनै शांत चित लाय , वही सज्जन शुचि ज्ञानी |
श्याम जो चाहे हो, सुन्दर शिव रचना अपनी,
सदा शांत चित लाय, सुने आलोचना अपनी ||

                     ज्ञानी-अज्ञानी
  ज्ञानी  अज्ञानी यथा, साधू और असाधु,
छोट-बड़े  पहचानिए, जब हो वाद-विवाद |
जब हो वाद-विवाद , शांत चित चर्चा भावै,
सुन आलोचना स्वयं. कोप नहीं मन में लावे |
कहें श्याम' ते ऊँच, वो ही सज्जन हैं ज्ञानी ,
रहि न सकें जो शांत, ते अभिमानी अज्ञानी ||





2 टिप्‍पणियां:

  1. आपने लिखा....हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें; ...इसलिए शनिवार 20/07/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं