समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

मंगलवार, 23 जुलाई 2013

"दो कुण्डलियाँ " (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

दो कुण्डलियाँ 
(१)
भारत में आतंक की, आई कैसी बाढ़।
भाई अपने खून से, ठान रहा है राड़।।
ठान रहा है राड़, चाल है बदली-बदली।
क्यों है कण्टक-ग्रस्त, सलोना पादप कदली।
कह मयंक कविराय, हुए सज्जन हैं आरत।
कैसे निज सम्मान, पुनः पायेगा भारत?? 
 
(२)
कम्प्यूटर अब बन गया, जन-जीवन का अंग।
कलियुग ने बदले सभी, दिनचर्या के ढंग।।
दिनचर्या के ढंग, हो गयी दुनिया छोटी।
देता है यह यन्त्र, आजकल रोजी-रोटी।।
कह मयंक कविराय, यही नवयुग का ट्यूटर।
बाल-वृद्ध औ’ तरुण, सीख लो अब कम्प्यूटर।। 

11 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया है गुरु जी
    सादर नमन--
    आभार-

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए बुधवार 24/07/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in ....पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीय शास्त्री जी, दोनों ही कुण्डलिया छंद कथ्य, शिल्प और भाव में बेजोड़ हैं.बधाइयाँ....

    "भाई अपने भाई से" यह दोहे का विषम चरण है .अंत में लघु,गुरु या लघु,लघु,लघु होना चाहिये.मात्रायें भी तेरह होनी चाहिये. कृपया देख लें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत-बहुत आभार अरुण जी!
    अभी शुद्ध करता हूँ!

    उत्तर देंहटाएं
  5. कह मयंक कविराय, यही नवयुग का ट्यूटर।
    बाल-वृद्ध औ’ तरुण, सीख लो अब कम्प्यूटर।।

    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    कम्प्यूटर अब बन गया, जन-जीवन का अंग।
    कलियुग ने बदले सभी, दिनचर्या के ढंग।।
    दिनचर्या के ढंग, हो गयी दुनिया छोटी।
    देता है यह यन्त्र, आजकल रोजी-रोटी।।
    कह मयंक कविराय, यही नवयुग का ट्यूटर।
    बाल-वृद्ध औ’ तरुण, सीख लो अब कम्प्यूटर।।

    बहुत खूब !बहूत खूब !बहुत खूब !छा गए दोस्त !

    छोड़ो पैदल चलना ,ले लो सब स्कूटर

    उत्तर देंहटाएं
  6. शानदार कुण्डलियाँ ! बहुत सुंदर !

    उत्तर देंहटाएं