समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

गुरुवार, 18 जुलाई 2013

होली पर दो कुंडलियाँ


होली के  त्योहार  पर, बरसें रंग  हजार |     
शत्रु-मित्र हर एक का, पाएं अदभुत प्यार |
पाएं अदभुत प्यार, छ्टा हो रंग - बिरंगी,
रहे आप से दूर, दुष्ट - मन हर  हुड़्दंगी |
कहे 'राजकवि' खेलें,जमकर आँख मिचौली,
होली पर हों,  क्लेशहीन-सतरंगी  होली |
-०-
होली पर अपना रखें, नियमित हर आचार |
हर हुड़दंगी से रखें, प्रेम - पूर्ण   व्यवहार |
प्रेम - पूर्ण व्यवहार,  नहीं उलझें - उलझाएं,
नशेबाज से दूर रहें, अति निकट न जाएं |
कहे 'राजकवि' होली पर कविता की चोली ,
जन-मानस में बाँट, मनाली अपनी होली |

6 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर प्रस्तुति ....!!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज बृहस्पतिवार (18-07-2013) को में” हमारी शिक्षा प्रणाली कहाँ ले जा रही है हमें ? ( चर्चा - 1310 ) पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदर सहित आभार | स्नेह बनाए रखें |

    उत्तर देंहटाएं
  3. उत्तर
    1. उत्साह वर्धन के लिए आपका आभार स्नेह निरंतर रखें |

      हटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..अभिव्यंजना में..मेरी नई पोस्ट."कदम धरती पर ,मन में आसमान हो"

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कृपा है आपकी स्नेह बनाए रखने की कृपा करें

      हटाएं