समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

गुरुवार, 4 जुलाई 2013

चंदा चंचल चाँदनी, तारे गाएँ गीत...........ऋता शेखर "मधु"


सदगुणियों के संग से, मनुआ बने मयंक
ज्यों नीरज का संग पा, शोभित होते पंक

चंदा चंचल चाँदनी, तारे गाएँ गीत
पावस की हर बूँद पर, नर्तन करती प्रीत

शुभ्र नील आकाश में, नीरद के दो रंग
श्वेत करें अठखेलियाँ, श्याम भिगावे अंग

हिल जाना भू-खंड का, नहीं महज संजोग
पर्वत भी कितना सहे, कटन-छँटन का रोग

नीलम पन्ना लाजव्रत, लाते बारम्बार
बिना यत्न सजता नहीं, सपनों का संसार

महँगाई के राज में, बढ़े इस तरह दाम
लँगड़ा हो या मालदा, रहे नहीं अब आम

-ऋता शेखर "मधु" 

ये दोहे ठाले-बैठे ब्लाग में कुछ दिन पहले प्रकाशित हुई है
इसे मैं साधिकार लाकर यहां पोस्ट की हूँ
ऋता बहन को उनके जन्म दिन पर अशेष शुभकामनाएँ
सादर
यशोदा

2 टिप्‍पणियां:

  1. वाह...बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    काश् ऋता शेखर जी भी इस मंच की सदस्या होतीं।

    उत्तर देंहटाएं