समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

शुक्रवार, 19 जुलाई 2013

मोदी के तीर



मोदी ने जब तानकर, छोड़ दिए कुछ तीर |  
भन्नाए से घूमते, सुन कर कई   वजीर |
सुन कर कई वजीर, फाड़ते   रोकर  छाती,
बुरका, पप्पी बाँध गले से,  चपर-कनाती |
कहे 'राज' कवि-मित्र, लिए पप्पी को गोदी,
चक्कर में सरकार, मस्त- मुस्काता मोदी |


10 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज शुक्रवार (19-07-2013) को स्वर्ग पिता को भेज, लिया पति से छुटकारा -चर्चा मंच 1311 पर "मयंक का कोना" में भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्तर
    1. आप सरीखे गुणीजनों का आशीर्वाद मेरे लिए संजीवनी है
      प्रत्‍युत्तर देंहटाएं

      हटाएं
    2. मोदी ने जब तानकर, छोड़ दिए कुछ तीर |
      भन्नाए से घूमते, सुन कर कई वजीर |
      सुन कर कई वजीर, फाड़ते रोकर छाती,
      बुरका, पप्पी बाँध गले से, चपर-कनाती |
      कहे 'राज' कवि-मित्र, लिए पप्पी को गोदी,
      चक्कर में सरकार, मस्त- मुस्काता मोदी |



      मोदी कहते इकवचन, दे धिक् धिक् धिक्कार |
      कई प्रवक्ता बहुवचन, थोथा शब्द प्रहार |
      थोथा शब्द प्रहार, सारवर्जित सा सारे |
      प्रवचन कर अखबार, मीडिया भी बेचारे |
      विश्वसनीयता आज, सभी ने अपनी खो दी |
      शुभ कुण्डलियाँ राज, राज पायेगा मोदी ||

      हटाएं
  3. वाह वाह
    वाकई मोदी के तीर बिलकुल निशाने पर लगे हैं

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप सरीखे गुणीजनों का आशीर्वाद मेरे लिए संजीवनी है

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

    उत्तर देंहटाएं
  6. बौखलाहट और कैसे निकालें ,बस ऊल-जलूल बकेंगे !

    उत्तर देंहटाएं