समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

सोमवार, 15 जुलाई 2013

कपड़े काटती कैंची 'कुण्डलिया '

कैंची कपड़े काटती,नींद काटती रात
        चाकू सब्जी काटता,शब्द काटते बात                
शब्द काटते बात,काटती खुखरी गरदन
दाँत काटते जीभ,काटते चटके बरतन
ग्रहण काटता चंद्र, चाँदी  चंद्र से एंची
   शाप काटते मंत्र,कपड़े काटती   कैंची 
**************************

13 टिप्‍पणियां:

  1. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए बुधवार 17/07/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in ....पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!


    उत्तर देंहटाएं
  2. ग्रहण काटता चंद्र, चाँदी चंद्र से एंची
    शाप काटते मंत्र,कपड़े काटती कैंची
    --
    बहुत बढ़िया!
    बस कुछ शब्द इधर से उधर करने हैं
    ग्रहण काटता चंद्र, चंद्र से चाँदी एंची
    शाप काटते मंत्र, काटती कपड़े कैंची
    --
    अब गेयता में कोई व्यवधान नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
    2. आदरणीय शास्त्री जी कुंडलिया पर आपकी समीक्षा समीचीन है हार्दिक आभार ,मैंने चांदी शब्द शुरू में एक तो नीचे के शब्द जो गुरु गुरु है को देखते हुए लिया था तथा दूसरे मुख्य बात ये है की चन्द्र शब्द दोनों एक साथ आना ठीक नहीं लग रहा था इस लिए चन्द्र शब्द बाद में लिया यदि चन्द्र शब्द दोनों एक साथ गेयता में ठीक लग रहे हैं तो यही ठीक है मैं अपनी मूल पोस्ट में लिख लुंगी

      हटाएं
  3. आपकी यह रचना कल मंगलवार (16-07-2013) को ब्लॉग प्रसारण : नारी विशेष पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ! बहुत सुन्दर कुण्डलियाँ . मजा आ गया ।

    उत्तर देंहटाएं