समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

बुधवार, 3 जुलाई 2013

"समीक्षा पोस्ट" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मित्रों!
      दोहा छन्द अर्धसम मात्रिक छन्द है। इसके प्रथम एवं तृतीय चरण में तेरह-तेरह मात्राएँ तथा द्वितीय एवं चतुर्थ चरण में ग्यारह-ग्यारह मात्राएँ होती हैं। दोहा छन्द ने काव्य साहित्य के प्रत्येक काल में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। हिन्दी काव्य जगत में दोहा छन्द का एक विशेष महत्व है। दोहे के माध्यम से प्राचीन काव्यकारों ने नीतिपरक उद्भावनायें बड़े ही सटीक माध्यम से की हैं। किन्तु दोहा छन्द के भेद पर कभी भी अपना ध्यान आकर्षित नहीं करना चाहिए। 
      सच तो यह है कि दोहे की रचना करते समय पहले इसे गाकर लिख लेना चाहिए तत्पश्चात इसकी मात्राएँ जांचनी चाहिए ! इसमें गेयता का होना अनिवार्य है !  दोहे के सम चरणों का अंत 'पताका' अर्थात गुरु लघु से होता है तथा इसके विषम चरणों के आदि में जगण अर्थात १२१ का प्रयोग वर्जित है ! अर्थात दोहे के विषम चरणों के अंत में सगण (सलगा ११२) , रगण (राजभा २१२) अथवा नगण(नसल १११) आने से दोहे में उत्तम गेयता बनी रहती  है!  सम चरणों के अंत में जगण अथवा तगण आना चाहिए अर्थात अंत में पताका (गुरु लघु) अनिवार्य है|
         सृजन मंच ऑनलाइन सीखने और सिखाने का मच है। यहाँ मैं भी आप से कुछ सीखूँगा और आशा करता हूँ कि आपको भी यहाँ कुछ अवश्य मिलेगा सीखने के लिए।
        मैं कोई विद्वान नहीं हूँ लेकिन अब तक जो भी अध्ययन किया है उसके कारण आज से दोहों पर आयीं अब तक की पोस्टों की समीक्षा करने का प्रयास कर रहा हूँ। इस क्रम में सबसे पहले इस मंच पर प्रकाशित भाई अरुण कुमार निगम जी के दोहों पर कुछ कहना चाहता हूँ।
परिभाषा की कसौटी पर इनके सभी दोहे बिल्कुल खरे उतरते हैं।
बड़ा सरल  संसार है  , यहाँ  नहीं  कुछ गूढ़
है तलाश किसकी तुझे,तय करले मति मूढ़. 

पागल होकर खोजता ,   सुविधाओं में चैन
भौतिकता करती रही , कदम-कदम बेचैन. 

जीवन   सारा   बीतता , करता रहा तलाश
अहंकार के भाव ने ,सबकुछ किया विनाश. 

त्याग दिया माँ-बाप को , कितना किया हताश
अब किस सुख की चाह में, मुझको करे तलाश.

जिस दिन जल कर दीप सा ,देगा ज्ञान प्रकाश
मुझमें  तू  मिल  जा  जरा ,  होगी खतम तलाश. 

जीवित होकर हँस पड़ूँ , ऐसा संग तलाश
फिर मेरी मूर्ति  गढ़ने  , लाना संग तराश.  

ज्येष्ठ दुपहरी क्यों खिले ,  सेमल और पलाश
इस क्यों का कारण कभी, अपने हृदय तलाश.  

दोहे के विषम चरणों के अंत में सगण (सलगा ११२) , रगण (राजभा २१२) अथवा नगण(नसल १११) आने से दोहे में उत्तम गेयता बनी रहती  है। अरुण जी के निमन दोहों में नगण का प्रयोग बहत सुन्दरता से किया गया है। अतः गति-यति और लय का सुन्दर सामंजस्य है इनमें।

कहाँ   ढूँढता  है   मुझे   ,   मैं  हूँ   तेरे   पास
                                                I  I I (लघु-लघु-लघु)
मैं तुझ सा साकार कब, मैं केवल अहसास.  

मैं  मिल   जाऊंगा  तुझे , तू बस मैं को भूल
             I I I (लघु-लघु-लघु)
मेरी  खातिर  हैं  बहुत ,  श्रद्धा   के   दो फूल.  
  
             I  I I (लघु-लघु-लघु)
पाप भरें हैं हृदय घट , मन में रखी खराश
लेकर गठरी स्वर्ण की  ,  मेरी करे तलाश.  

आभार भाई अरुण कुमार निगम जी!
मुझ जैसे बहुत से लोगों को आपसे सीखने को बहुत कुछ मिलेगा!
Photo: सोमवार, 1 जुलाई 2013

"दोहा छन्द प्रसिद्ध" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

तेरह-ग्यारह से बना, दोहा छन्द प्रसिद्ध।
माता जी की कृपा से, करलो इसको सिद्ध।१।

चार चरण-दो पंक्तियाँ, करती गहरी मार।
कह देती संक्षेप में, जीवन का सब सार।२।

सरल-तरल यह छन्द है, बहते इसमें भाव।
दोहे में ही निहित है, नैसर्गिक अनुभाव।३।

तुलसीदास-कबीर ने, दोहे किये पसन्द।
दोहे के आगे सभी, फीके लगते छन्द।४।

दोहा सज्जनवृन्द के, जीवन का आधार।
दोहों में ही रम रहा, सन्तों का संसार।५।

http://srijanmanchonline.blogspot.in/2013/07/blog-post.html

5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया-
    निश्चय ही भाई अरुण निगम जी
    का मार्ग दर्शन उत्कृष्ट साहित्य सृजन में सहायक होगा -
    सादर-

    उत्तर देंहटाएं
  2. जानकारी बढाती पोस्ट बहुत अच्छी लगी |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीय शास्त्री जी, आपके अनुमोदन के लिये हृदय से आभार. मैं भी छन्द में कोई विद्वान नहीं हूँ, कुछ किताबों से तो कुछ अपनों से सीखते हुये ही अभ्यासरत हूँ. कई बार किताबों में दिये निर्देश भलीभाँति समझ में नहीं आते और भ्रम की स्थिति निर्मित हो जाती है,तब परस्पर सीखने-सिखाने की प्रक्रिया ही सबसे उपयुक्त जान पड़ती है.अब अंतर्जाल ने इसे और भी सुगम कर दिया है.
    छन्द रचना बहुत आसान नहीं है तो बहुत कठिन भी नहीं है. कुछ लिखेंगे तब तो त्रुटियों का पता चलेगा.सीखने की प्रक्रिया में अपनी त्रुटियों को खुले मन से स्वीकार भी करना चाहिये, यह नहीं कि जो मैंने लिख दिया वह बिल्कुल दोष रहित है.छन्द तो अथाह समुद्र है, जितने गहरे डूबेंगे उतने ही कीमती रत्न मिलेंगे.आइये हम सब परस्पर सीखें व सिखायें.कोई गुरु नहीं, कोई शिष्य नहीं. सब गुरु हैं और सभी शिष्य भी हैं.यह दोहा सीखने के लिये अनमोल मंत्र है :

    करत-करत अभ्यास के, जड़मति होत सुजान
    रसरी आवत जात ते, सिल पर परत निसान ||

    उत्तर देंहटाएं