समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

सोमवार, 29 जुलाई 2013

ख़लीफ़ा घर से बाहर जो, हमें बन कर दिखाता है |
वही  चूहा  बना घर में, चरण  'उनके'  दबाता है |

सुबह की चाय से लेकर, बनाता लंच घर भर का,
धुलाई कर के कपड़ों की, वही छत पर सुखाता है |

वही स्कूल जाने  को करे  तैयार,  बच्चों   को,
वो जब अंगड़ाई लेती हैं,तो उनकी चाय लाता है |

चला जाता है शापिंग साथ में, चपरासियों सा ये,
यही पेमेन्ट करता है, यही सब लाद  लाता  है |

वो नज़रें कर ज़रा टेढी,   इसे  आवाज  देती  हैं,
तो अन्दरतक ख़लीफ़ा ये,सिहर कर कांप जाता है |

सुनाऊं क्या ख़लीफ़ा की, ये हैं सब 'राज' की बातें ,
बना रहता गधा घर में,अकड़ बाहर दिखाता  है | 

4 टिप्‍पणियां:

  1. अभी तो कुण्डलिया छन्द ही चल रहा है और यह तो कुण्डलिया नहीं हैं।
    1 अगस्ते से दूसरा छन्द शुरू होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति ....!!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार (30-07-2013) को में” "शम्मा सारी रात जली" (चर्चा मंच-अंकः1322) पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. चित्र तो अश्लील है कोइ और ढंग का चित्र नहीं मिला...

    उत्तर देंहटाएं