समर्थक

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

सोमवार, 8 जुलाई 2019

गीत

गीत   लिखूँ   प्रीत   में  मनमीत  के  लिखूँ
भावना  में   बज   रहे   संगीत   के   लिखूँ।।
मन्त्रमुग्ध    ही    रहा    हूँ    मोहपाश    में
दृष्टिपथ    निहार   रहीं   पलकें   साथ   में
गर्मीयों   की   बात   करूँ  शीत  के  लिखूँ
भावना  में   बज   रहे   संगीत   के   लिखूँ।।
विभीषिका कठिन वसी  हृदय  के ओक में
श्वासें भी साथ  छोड़ती  हैं  शोक - शोक में
वर्तमान   की    लिखूँ   व्यतीत   के   लिखूँ
भावना   में   बज   रहे   संगीत   के   लिखूँ।।
संयोग   सुमन   सौरभित  सुवास  जो  दिये
सोंधी   सुगंध   सच  में  वरसात   की  लिये
जो   भाव   बाँध   लेते  उस  रीत  के  लिखूँ
भावना   में    बज   रहे   संगीत   के   लिखूँ।।
आभाव में  स्वभाव  से  ही  भाव  ही  किया
अलकों की सघन छाँव में नित आसरा दिया
हार की  लिखूँ  या  अपने  जीत   के   लिखूँ
भावना    में    बज   रहे   संगीत   के  लिखूँ।।
मनुहार    विप्रलम्भ   में   भी   भूलता   नहीं
संयोग  विना  मन - मधुप  भी  झूलता  नहीं
अंतरंग     के    उसी     अतीत    के   लिखूँ।।
https://jaiprakashchaturvedi.blogspot.com/2019/07/blog-post.html