समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

बुधवार, 10 जुलाई 2013

प्रेम और मनुहार (दोहे)

बीस बरस में थी बनी ,प्रेम भरी दीवार।  
बीस दिवस भी ना लगे ,डाली बीच दरार  

नेह नीर से सींच कर ,बोया था विश्वास।  
दीमक जड़ तक कब गई ,नहीं हुआ आभास॥ 
  
छुपी हुई हर  ह्रदय  में ,देखो एक किताब |
जिसके पन्नो में छुपा,बिसरा हुआ गुलाब ||  
  
मिला खाद में जो दिया ,प्रेम और मनुहार। 

शुष्क वृक्ष ने देख कर ,बदल लिया व्यवहार॥   
***************************************

7 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज बृहस्पतिवार (11-07-2013) को चर्चा - 1303 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. दोहों को पसंद करने पर आप सभी का हार्दिक आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर परिभाषित हुये, प्रेम और विश्वास
    जीवन - दर्शन कह रहे, चारों दोहे खास ||

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर दोहे ....क्या बात है ....

    उत्तर देंहटाएं