समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

सोमवार, 8 जुलाई 2013

अरुण निगम के दोहे :



जल  वे  भरने    गये   ,  जलवे  लेकर  साथ
नल  की  साँसें  थम  गई , खाली  गगरी  हाथ  |

नल  नखरे  दिखला  रहा , चिढ़ा रहा नलकूप
पल  भर में  मुरझा  गया , निखरा निखरा रूप |

ताल - तलैया  शुष्क थे  , नल की थी  हड़ताल
नयनों का जल छलकता, काजल बहता गाल  |

XXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXX

पानी  पानी  हो  गई  ,   ऐसी  आई  लाज
घूंघट पट खोला नहीं  , सैंया  हैं  नाराज |

देख सकी पनघट नहीं, कैसे भरती नीर
घूंघट  ही   बैरी  हुआ , कासे  कहती  पीर |

घूंघट पट पलटा गई ,  ऐसी  चली  बयार
निर्निमेष  पिय  देखते , सूरत  पानीदार |
XXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXX

10 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार ८ /७ /१ ३ को चर्चामंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां हार्दिक स्वागत है ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर दोहे रचे हैं आपने भाई अरुण निगम जी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. देख सकी पनघट नहीं, कैसे भरती नीर
    घूंघट ही बैरी हुआ, कासे कहती पीर |

    सुंदर दोहे हैं ..बधाई आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर दोहे है, बधाई आपको

    यहाँ भी पधारे ,
    रिश्तों का खोखलापन
    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_8.html

    उत्तर देंहटाएं

  5. 'पानी पानी' हो गई, लिख कर किया कमाल |
    'जल' कर'जल' को मांगते, रसिक बिहारी लाल |....... क्या खूब लिखा है मान्यवर

    उत्तर देंहटाएं
  6. टीला टीली घोड़ चढ़, लिए सत फेरी फेर ।
    ढाई घर ढिलाई के , ढाई मैं भए ढेर । ५ ६ ।

    भावार्थ : -- टीला और टीली ने घोड़ चढ़ी कर सात फेरे ले लिए । ढाई घर चलने के पश्चात गत बंधन शिथिल पढ़ गया शेष ढाई घर में तो ढेर ही गए ॥

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज बुधवार (10-07-2013) को निकलना होगा विजेता बनकर ......रिश्तो के मकडजाल से ....बुधवारीय चर्चा-१३०२ में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं