समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

सोमवार, 1 जुलाई 2013

मन के विकार

त्रुटि का कद मत नापिये,कद में ना कुछ भेद|
पूरी नैया दे डुबा, इक नन्हा  सा छेद||

गलती से मत  भागिये ,छुपना है बेकार|
गलती, गलती ही रहे ,हो कोई आकार||

धरती पर जैसे रचे, जन जीवन कर्तार|
माटी से गढ़ता  रहा ,बर्तन देख कुम्हार||

माटी-माटी खेलते,चाक थके ना हाथ|
माटी में पैदा हुआ,जाना उसके साथ||


लगा डुबकियाँ कुंभ में ,तन का मैल उतार| 
कहाँ उतारे सोच ले ,मन का शेष विकार||
***************************************************************

11 टिप्‍पणियां:

  1. वाह...!
    बहुत उत्तम दोहे प्रकाशित किये हैं बहन राजेश जी आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर और शिक्षाप्रद दोहावली...

    उत्तर देंहटाएं

  3. बहुत बढ़िया हैं दोहे आभार दीदी-

    हो गलती का लती जो, खायेगा वह लात |
    पछताये कुछ ना मिले, गर समझे ना बात ||

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस उत्साह वर्धन हेतु आप सभी मित्रों का हार्दिक आभार |

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी यह रचना कल मंगलवार (02-07-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर रचना
    क्या बात

    उत्तराखंड त्रासदी : TVस्टेशन ब्लाग पर जरूर पढ़िए " जल समाधि दो ऐसे मुख्यमंत्री को"
    http://tvstationlive.blogspot.in/2013/07/blog-post_1.html?showComment=1372748900818#c4686152787921745134

    उत्तर देंहटाएं