समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

बुधवार, 31 जुलाई 2013

नरक की अंतिम जमीं तक गिर चुके है आज जो
नापने को कह रहे , हमसे बह  दूरिया आकाश की ..

इस कदर भटकें हैं युबा आज के इस दौर में 
खोजने से मिलती नहीं अब गोलियाँ  सल्फास की 

आज हम महफूज है ,क्यों दुश्मनों के बीच में
दोस्ती आती नहीं है रास अब बहुत ज्यादा पास की

बँट  गयी सारी जमी ,फिर बँट गया ये आसमान
क्यों आज फिर हम बँट गए ज्यों गड्डियाँ हो तास की

हर जगह महफ़िल सजी पर दर्द भी मिल जायेगा
अब हर कोई कहने लगा है  आरजू बनवास की

मौत के साये में जीती चार पल की जिंदगी
क्या मदन ये सारी  दुनिया, है बिरोधाभास की


मदन मोहन सक्सेना

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया आदरणीय मदन जी-

    उत्तर देंहटाएं
  2. कल से हरिगीतिका छन्द शुरू हो रहा है।
    कृपया हरिगीतिका छन्द की रचनाएँ ही पोस्ट करें!

    उत्तर देंहटाएं