समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

गुरुवार, 4 जुलाई 2013

सुप्रभात दोहे 1.


सुप्रभात दोहे रचने,  मैं आई हूँ आज |

अधर पर मुस्कान लिए,करती हूँ आगाज ||

रोज ले आए नई ,सुबह सुखद सन्देश |

पूरी हो हर कामना ,संकट हरे गणेश||

आये कोई विघ्न ना ,सर पर रखना हाथ|

पूरी करना कामना ,हे नाथों के नाथ||

चूम उठाया भोर ने ,ख़ुशी मिल गई ख़ास | 

सुबह संदेश आपका ,दे गया नई आस  ||

बन जायेंगे आपके, सारे बिगड़े काम |

बिना थके बढते रहें , मन में धारे राम||

सुबह सुहानी आ गई लेकर मस्त  फुहार |

पूरी हो हर कामना  खुशियाँ मिलें अपार||

.........................................

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें