समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

शनिवार, 13 जुलाई 2013

नव-वर्ष के सरल दोहे



जैसा बीता जा लिया,सिकुड़ सिमट गत वर्ष |
जग का सारा तम हरे, यह आगत नव वर्ष ||
-०-
प्रभु से है ये प्रार्थना, लड़ा  न जाए युद्ध |
सब अपने में मस्त हों, हो विचार हर शुद्ध || 
-०-
दुर्बुद्धि हर नष्ट हो, बन कर रहें प्रबुद्ध |
सब जन कुमति निवार कर,करें धारणा शुद्ध ||
-०-
नये वर्ष में हो नया, इस जग का निर्माण |
नव-प्रगति के रास्ते, हो दुखियों का  त्राण ||
-०-
नया वर्ष नव कल्पना, रचें नया इतिहास |
छल,फरेब,धोखाधड़ी, फटक न पाए पास ||
-०-
नए वर्ष में न मिले, कोई कठिन मुकाम |
थोड़े सबल प्रयास से, बन जाएं सब काम ||
-०-
कठिन अगर कुछ कार्य हों, हो जाएं सब सिद्ध |
नए वर्ष में आपको, मिले सिद्धि और रिद्धि ||
-०-
पथ की हर बाधा हटे, पूर्ण सभी हों काज |
बिन विलम्ब होते रहे, कल के होते आज ||
-०-
प्रखर तीव्र गति से बढ़ें,रिद्धि-सिद्धि सब नित्य |
नित्य नये आयाम पर, चढ़े भाग्य आदित्य ||
-०-
गया वर्ष सब ले गया, कुटिल,कष्ट,संताप |
नए वर्ष निश्चित रहें, हंसी-ख़ुशी से आप ||  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें