समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

रविवार, 21 जुलाई 2013

पांच चुनावी छ्क्के - डा.राज सक्सेना



बहूगुणा ने गुण दिखा, दी होली की छींट |
अध्यक्षी को कर दिया,उसने महिला सीट |
उसने महिला सीट, सैकड़ों को  दहलाया,
कर के हेरा फेर, नगर को मूर्ख  बनाया |
कहे 'राजकवि',     सपने सारे दिए उड़ा,
चीख रहे कुछ लोग,नर्क में जाये बहुगुणा |
-०-
नियमों को उल्टा बना, उसमें लिया लपेट |
गढवाली हर सीट को, कर के उसमे सैट |
कर के उसमे सैट,  पूर्ण गढवाल बचाया,
लगभग पूर्ण कुमांऊं ही आरक्षित करबाया |
कहे 'राजकवि'  राजधर्म क्या सुंदर पलटा,
किसके हित के लिए,अरे नियमों को उल्टा ||
-०-
हमको हर अधिकार की, दिखी आज औकात |
बात उसी की मानते,  जिसकी खाते लात |
जिसकी खाते लात,  उसी का हुक्म बजाते,
नियम और कानून,ताक पर घर रख आते |
कहे 'राज कवि'सुनो, सुनाते हम भी तुमको ,
मत दिखलाओ नियम तोडकर शक्लें हमको |
-०-
अपने हित को साधने, जन-हित देते तोड़ |
मनमानी से कर रहे, 'ला' की तोड़मरोड़ |
'ला' की तोड़ - मरोड़,   अंधेरे में ले जाते,
फिर शासक से उसपर अनगिन रेप कराते |
कहे 'राज' कविमित्र, देख लो दिन में सपने, 
बेशरमी से दुमें हिला, भर लो  घर अपने  |
-०-
जन - जनता की जेब से,आता टैक्स कराल |
उस से तनखा प्राप्त कर, फूल रहे हैं  गाल |
फूल रहे हैं  गाल, नहीं घर से कुछ खाते ,
इस जनता के धनं से ही, तुम मौज उड़ाते ?
कहे 'राज कवि'मित्र, रखो इज्जत तनखा की,
गरिमा मन में रखो मित्र इस जन-जनता की |
-०-

7 टिप्‍पणियां:

  1. अरे वाह...
    पढ़कर मजा आ गया...
    वाकई में छक्के हैं सब...
    मगर मुझे तो सब कुण्डलियाँ ही लग रही है।
    --
    आभार...!

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्तर
    1. जर्रानवाजी है आपकी | स्नेह और सम्पर्क बनाए रखें | आदाब |

      हटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्तर
    1. प्रसाद जी प्रणाम | कविता का शीर्षक देखने का कष्ट करें | ये मात्र छ्क्के हैं इस लिए इन पर सुख तो
      प्रकट करें दुःख नहीं क्योकि यह मात्र विनोद के लिए रचे गए हैं | इन्हें आप कुंडलियों की सौतेली बहन मान कर पढ़ें तो दुःख नहीं होगा |स्नेह बनाए रखें | आदर सहित |

      हटाएं