समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

शनिवार, 6 जुलाई 2013

सौन्दर्य वर्णन - दोहे





कृष्ण मेघ से कृष्णता, ले केशों में डाल |
उठा दूज का चाँद ज्यों, रचा विधाता भाल |

खिची कमान भोंहें रची, पलक सितारे डाल |
नयन कटीले रख दिए, मृग से नयन निकाल |

तीखी, सीधी और खड़ी, रची विधाता नाक |
रक्तवर्ण, रस से भरे, रचे होंठ रस-पाक |

चिबुक अनारों से रचे , ठोड़ी पर तिल तीन |
दंत पंक्ति दिप-दिप दिपें, ज्यों मोती रख दीन |

ग्रीवा का भी रूप क्या, सुरा भरा सा पात्र |
भुजवल्लरि ऐसी बनी, पुष्प लदे हों मात्र |

उठा हिमालय से धरा, दो शिखरों का भार |
भार धरा कैसे सहे, कृष तन है लाचार  |

बांकी बड़ी कटार सा, सौम्य कमर  का रूप |
क्षीण सुगढ़ ऐसी लगे, लघुतम धरा स्वरूप |

शिखर भार को साधने, विधना ने अविलम्ब |
विन्द्याचल से धर दिए, उन्नत सुगढ़ नितम्ब |

स्वर्ण-कमल की नाल से, सृजित तुम्हारे पैर |
रूप तलैया डूब कर, कौन सकेगा तैर |

स्वर्णिम तारक से जडित, तन गुलाब की पांख |
निमिष 'राज' तुमको तके, टिक जाती है आँख |

3 टिप्‍पणियां:

  1. शब्दाभूषण से अहा !! सुंदर सजी सु-नार
    निर्निमेष तकता रहा, हतप्रभ खड़ा सुनार ||

    हृदय से बधाइयाँ ,आदरणीय राज जी...........

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज बुधवार (10-07-2013) को निकलना होगा विजेता बनकर ......रिश्तो के मकडजाल से ....बुधवारीय चर्चा-१३०२ में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं