समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

सोमवार, 29 जुलाई 2013

कुण्डली छंद ....श्याम लीला-- गोवर्धन धारण.... डा श्याम गुप्त....

 

..कुण्डली  छंद ....श्याम लीला-- गोवर्धन धारण....

                                           ...


जल अति भारी बरसता वृन्दावन के धाम,
हर  वर्षा-ऋतु  डूबते , वृन्दावन के ग्राम |
वृन्दावन के ग्राम, सभी दुःख सहते भारी ,
श्याम कहा समझाय, सुनें सब ही नर नारी 
ऊंचे गिरितल बसें , छोड़ नीचा धरती तल,
फिर न भरेगा, ग्राम गृहों में वर्षा का जल ||

पूजा नित प्रति इंद्र की, क्यों करते सब लोग ,
गोवर्धन  पूजें  नहीं,  जो  पूजा  के  योग  |
जो पूजा के योग,  सोचते क्यों नहीं सभी,
देता पशु,धन-धान्य,फूल-फल सुखद वास भी |
हितकारी है श्याम , न गोवर्धन सम दूजा,
करें नित्य वृज-वृन्द  सभी गोवर्धन पूजा  ||

सुरपति जब करने लगा, महावृष्टि ब्रजधाम ,
गोवर्धन गिरि बसाए, ब्रजवासी घनश्याम  |
वृजवासी घनश्याम,  गोप गोपी साखि राधा,
रखते सबका ख्याल, न आयी कुछ भी बाधा |
उठा लिया गिरि कान्ह, कहैं वृज बाल-बृंद सब ,
चली न कोइ चाल , श्याम, यूँ हारा सुरपति  || 


4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज मंगलवार (30-07-2013) को <a href="http://charchamanch.blogspot.in/2013/07/1322.html“ मँ” चर्चा मंच <a href=" पर भी है!
    सादर...!
    चडॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब छन्द का शुद्ध नाम ही नहीं लिखा तो पढ़ने से क्या लाभ?
    फिर भी पढ़ लिया इसको कुण्डली नहीं कुण्डलिया छन्द कहा जाता है इसमें गति भंग है शिल्प के साथ प्रवाह भी छन्द की आवश्यकता होती है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वाजपयी जी ...छंद का नाम कुण्डलिया नहीं है अपितु वास्तविक नाम कुण्डली छंद है ....प्राथमिक कक्षाओं में ..पढी होंगीं कि शीर्षक... गिरिधर की कुण्डलियाँ ..या काका की कुण्डलियाँ ....जो कुण्डली का बहुबचन है ....उसी को बाद में कुण्डलिया कहने लगे ...अतः अब यह दोनों नाम से जाना जाता है ...

      हटाएं