समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

रविवार, 14 जुलाई 2013


भौतिक साधन प्राप्त हों, मिले साथ में धर्म |
जनहित सेवा भाव से, करें नये नित कर्म ||
-०-
नये वर्ष में ना मिले,  मित्र - जनों को कष्ट |
सुख,समृद्धि,सुरक्षा मिले, हर पीड़ा  हो नष्ट ||
-०-
सीढी प्रगति की चढ़े,  चढ़े  जगत में मान |
बढ़े समझ सदभावना ,उच्चसोच और शान ||
-०-
जीवन भर सोचे सभी,सिद्ध-सफल हों काम |
सिक्के सा चलता रहे, खरा आप  का नाम ||
-०-
काम,क्रोध,मद,लोभ का, नीचा रहे ललाट |
शत्रु नाश स्वमेव हो, छल-छंदों को  काट ||
-०-
बुरे काम  ना खर्च हो, कौड़ी और छदाम |
सद्कर्मों में खर्च हों, झोली भर-भर दाम ||
-०-
मात-पिता और श्रेष्टजन, नित-नित दें आशीष |
हंसी-ख़ुशी हरदम मिले, दूर रहे  हर   टीस ||
-०-
ईश-कृपा निश-दिन रहे, स्वत: बनें सब काम |
स्वर्णिम सा हर दिन कटे, कटे महकती शाम ||
-०-
दुनिया के सब सुख मिलें, रहे न कोई कष्ट |
भरी ख़ुशी हरदम रहे, दुःख के पल हों नष्ट ||
-०-
गये बरस के पृष्ट के, कर सब बंद हिसाब |
रिश्तों की इस वर्ष में,लिक्खें नई किताब ||
-०-
गया वर्ष सब ले गया, कुटिल,कष्ट,संताप |
नए वर्ष यश-मान से, परिपूरित हों आप ||

4 टिप्‍पणियां:

  1. नये वर्ष में ना मिले, मित्र - जनों को कष्ट |
    सुख,समृद्धि,सुरक्षा मिले, हर पीड़ा हो नष्ट ||
    --
    कृपया इस दोहे को जाँच लें।

    उत्तर देंहटाएं