समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

गुरुवार, 4 जुलाई 2013

दोहावली

-1-
स्वर्ण कलश द्वै आपके,अमृत विष ज्यों साथ |
अमृत शैशव पा रहा, विष प्रियतम के हाथ |
-2-
अहंकार सुख में नहीं, दुर्दिन में हो धीर |
यही ध्यान रख जो चलें,कभी न भोगें पीर |
- 3 -
निर्मल्-निश्छल आंख में,स्वपनों का परिलेख |
कालजयी हो जाएगा, इनका   हर अभिलेख | 
-4-
शब्द चित्र रचते मगर,शब्द्-जाल से दूर |
शब्दों में शब्दान्वित,निहित अर्थ भरपूर |
-5-
दोहों से हटकर ये भी देखिए-
उतर गहराई में मन की,अचेतन कल्पना है ये |
कहें कविता इसे कैसे,विरल परि-कल्पना है ये |


3 टिप्‍पणियां:

  1. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए शनिवार 06/07/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. उतर गहराई में मन की,अचेतन कल्पना है ये |
    कहें कविता इसे कैसे,विरल परि-कल्पना है ये |आदरणीय राज सक्सेना जी बहुत सुन्दर दोहे ,कृपया अंतिम द्विपदी को दोहों से अलग करें वरना नव रचनाकारों को संशय होगा
    कालजयी हो जाएगा,----एक संशय इसमें शायद आपने ए को एक मात्रा गिनी है जब कि मेरे संज्ञान में २ मात्राएँ गिनी जाती हैं ए के स्थान पर जायगा प्राचीन दोहेकारों ने किया हुआ है
    आपको इन शानदार दोहों के लिए हार्दिक बधाई|

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    अन्तिम बन्द को अलग कर दीजिए।

    उत्तर देंहटाएं