यह ब्लॉग खोजें

शुक्रवार, 1 जून 2018

अच्छे उद्देश्य के कार्य हेतु बुरा तरीका ----डा श्याम गुप्त



                            



             अच्छे उद्देश्य के कार्य हेतु बुरा तरीका ----- डा श्याम गुप्त

            -क्या इस अच्छे उद्देश्य के लिए कोइ अन्य अच्छा व शालीन तरीका नहीं अपनाया जा सकता था------परन्तु आसुरी प्रवृत्ति वाले क्षेत्रों में सोच का तरीका ही वही है ----



फ़ॉलोअर

"मनहरण घनाक्षरी छन्द विधान" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

मनहरण घनाक्षरी        घनाक्षरियों   में मनहरण घनाक्षरी सबसे अधिक लोकप्रिय है । इस लोकप्रियता का प्रभाव यहाँ तक है कि बहुत ...