समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

शुक्रवार, 1 नवंबर 2013

प्रीति का एक दीपक जलाओ सखे !......डा श्याम गुप्त ....


                                             


प्रीति का एक दीपक जलाओ सखे !.



 प्रीति  का एक दीपक जलाओ सखे !
देहरी का सभी तम सिमट जायगा | 
प्रीति का गीत इक गुनुगुनाओ सखे !
ये ह्रदय दीप फिर जगमगा जायगा ||

 
द्वेष क्या, द्वंद्व क्या ,
प्रीति निश्वांस सी |
एक लौ जल उठे ,
मन में विश्वास की |

आस का दीप ज्यों ही जले श्वांस में ,
जिंदगी का अन्धेरा भी कट जायगा |   .------प्रीति का एक दीपक ....||

 
ये अन्धेराहै क्यों,
विश्व में छा रहा ?
 साया आतंक का ,
कौन बिखरा रहा !

राष्ट्र के भाव अंतस सजाओ सखे !
ये कुहांसा तिमिर का भी छंट जायगा |   ----प्रीति का एक दीपक .......||


नेह से, प्रीति से,
प्रीति की रीति का |
एक दीपक जले,
नीति की प्रीति का |

नेह-नय के दिए जगमगाओ सखे !
 हर ह्रदय का अन्धेरा सिमट जायगा |   -----प्रीति का एक दीपक ......||

 
मन में छाया हो ,
अज्ञान ऊपी तिमिर |
सूझता सत् असत -
भाव कुछ भी नहीं |

ज्ञान का दीप तो इक जलाओ सखे !
बाल-रवि से छितिज जगमगा जायगा |
प्रीति का एक दीपक जलाओ सखे !
देहरी का सभी तम सिमट जायगा ||      ...प्रीति का एक दीपक ......||

                                                                              चित्र गूगल साभार.....

12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शनिवार (02-11-2013) "दीवाली के दीप जले" : चर्चामंच : चर्चा अंक : 1417) "मयंक का कोना" पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    दीपावली पर्वों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति .. दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं ..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद नीरज....शुभ दीवाली...

      हटाएं
  3. बहुत ही सुंदर कविता। शुभ दीपावली।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद आशाजी ..गीत की प्रशंसा हेतु .....आभार...शुभ दीवाली...

      हटाएं
  4. शानदार सामयिक प्रस्तुति...दीपावली की शुभकामनायें...

    नई पोस्ट @जब भी जली है बहू जली है

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये अन्धेराहै क्यों,
    विश्व में छा रहा ?
    साया आतंक का ,
    कौन बिखरा रहा !

    राष्ट्र के भाव अंतस सजाओ सखे !
    ये कुहांसा तिमिर का भी छंट जायगा |

    ये अन्धेराहै क्यों,
    विश्व में छा रहा ?
    साया आतंक का ,
    कौन बिखरा रहा !

    राष्ट्र के भाव अंतस सजाओ सखे !
    ये कुहांसा तिमिर का भी छंट जायगा |
    मनोरम लोकलुभावन प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. धन्यवाद ...शास्त्रीजी, आशाजी, वीरेन्द्र जी, प्रसन्न जी एवं नीरज जी.....दीपावली की शुभ कामनाओं के साथ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर गीत.
    दीपोत्सव की शुभकामनाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  8. मनभावन सन्देश परक भाव गीत।संस्कृति वंदन सा। सांस्कृतिक थाती सा।

    उत्तर देंहटाएं