समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

रविवार, 8 सितंबर 2013

"रूबाई छन्द का शुभारम्भ" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मित्रों।
आज से एक माह तक "सृजन मंच ऑनलाइन" पर हम रूबाई छन्द का शुभारम्भ कर रहे हैं।
रूबाई चार पंक्ति वाली रचना को कहते है, या यह कह लें दो शे'र वाली कविता है। जिसमें पहली-दूसरी और अन्तिम पंक्ति तुकान्त हो। अतः रूबाई सबसे सरल छन्द है।
मेरा सभी योगदानकर्ताओं से अनुरोध है कि "सृजन मंच ऑनलाइन" पर रूबाइयाँ ही पोस्ट करें।
उदाहरण के लिए मेरी कुछ रूबाइयाँ प्रस्तुत हैं- 
(1)
जीवन में तम को हरने को, चिंगारी आ जाती है।
घर को आलोकित करने को, बहुत जरूरी बाती है।
होली की ज्वाला हो चाहे, तम से भरी अमावस हो-
हवनकुण्ड में ज्वाला बन, बाती कर्तव्य निभाती है।
(2)
हम दधिचि के वंशज हैं, ऋषियों की हम सन्ताने हैं।
मातृभूमि की शम्मा पर, आहुति देते परवाने हैं।
दुनियावालों भूल न करना, कायर हमें समझने की-
उग्रवाद-आतंकवाद से, डरते नहीं दीवाने हैं। 
(3)
जंगल-झाड़ी, गाँव-नगर में, चौराहों-गलियारों में
तुकबन्दी करने वाले तो, मिल जाते बाजारों में
मुझे अलग मत समझो यारों, मैं भी उनमें से ही हूँ,
असली सायर वो होते हैं, जो जलते अंगारों में

12 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. हिंदी लेखक मंच पर आप को सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपके लिए यह हिंदी लेखक मंच तैयार है। हम आपका सह्य दिल से स्वागत करते है। कृपया आप भी पधारें, आपका योगदान हमारे लिए "अमोल" होगा | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा |

    मैं रह गया अकेला ..... - हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल - अंकः003

    उत्तर देंहटाएं
  3. शास्त्री जीआपसे क्षमा मांगते हुए लिख रहा हु ------
    दिल का गुलाम हमे पसंद है
    रहे सदा दिल मे यह हमे पसंद है
    आजके इस दौर में दिल लगाते दगाबाज हैं ---
    दिल लगाके दगा देना आज की पसंद है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुन्दर रुबाई है श्री राम जी... बधाई ..

      हटाएं
  4. आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा आज सोमवार [09.09.2013]
    चर्चामंच 1363 पर
    कृपया पधार कर अनुग्रहित करें
    सादर
    सरिता भाटिया

    उत्तर देंहटाएं
  5. उत्तम-

    गणेश चतुर्थी की शुभकामनायें-

    उत्तर देंहटाएं
  6. गणेश चतुर्थी की शुभकामना ,रुबाई छंद को समझा

    उत्तर देंहटाएं
  7. gajanan sal bhar baad tum fir aaye
    sang apne dheron khushiya laye
    ghhum rahe man me bachpan ke wo saye
    jab in dino hum par tum hi rahte the chhaye...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुन्दर रुबाई है बोधमिता जी....सुन्दर ..

      हटाएं