समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

शनिवार, 14 सितंबर 2013



हिंदी पर तीन मुक्तक 

मातृभाषा पर जिसे,अपनी न स्वाभिमान है |
राष्ट्रभाषा के प्रति, रखता नहीं अधिमान  है |
पूर्ण पशुवत है जिसे,ना शीर्ष पर हो राष्ट्रहित ,
सम्पदामय हो भले, निकृष्ट का प्रतिमान है |
        --
करेगी  देश  को  जगमग ,  मुझे  विश्वास  हिन्दी  का |
है उत्सव के लिये निश्चित सितम्बर मास हिन्दी का |
हर एक चौद्ह सितम्बर को,मनाते हैं हम    'हिन्दी डे'-
इसी दिन कर दिया करते हैं,   तर्पण खास हिन्दी  का |
        --
उन्नत ललाट पर चमक रही,भारत माता की बिन्दी है |
है ब्रह्मपुत्र सम हिमनद यह,सतलुज,सरयू,कालिन्दी है |         
जो आकर मिला पवित्र हुआ,है पतित-पावनी मां जैसी,
वर्तनी सरलभाषा  सीधी, निर्मल गंगा सम हिन्दी है |
      --        

1 टिप्पणी: