यह ब्लॉग खोजें

शनिवार, 21 दिसंबर 2013

"ग़ज़ल-नाम तुम्हारा, काम हमारा" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


काम तो हमारे हैं, नाम बस तुम्हारा है
पाँव तो हमारे हैं, रास्ता तुम्हारा है


लिख रहे हैं प्यार की इबारत को
बोल तो हमारे हैं, कण्ठ बस तुम्हारा है


नदिया में लहरों से जूझ रहे हैं
दूर ही किनारा है, आपका सहारा है


अपने दिल में झाँककर देखिए जरा
आइना तुम्हारा है, अक्स बस हमारा है


दिख रहे हैं दोबदन एक  सुमन के
प्राण तो तुम्हारा है, 
"रूप" बस हमारा है

4 टिप्‍पणियां:

फ़ॉलोअर

"मनहरण घनाक्षरी छन्द विधान" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

मनहरण घनाक्षरी        घनाक्षरियों   में मनहरण घनाक्षरी सबसे अधिक लोकप्रिय है । इस लोकप्रियता का प्रभाव यहाँ तक है कि बहुत ...