समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

रविवार, 2 नवंबर 2014

"भ्रष्ट आचरण में, आचार ढूँढता हूँ" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

परिवार ढूँढता हूँ और प्यार ढूँढता हूँ।
गुल-बुलबुलों का सुन्दर संसार ढूँढता हूँ।।

कल नींद में जो देखा, मैंने हसीन सपना,
जीवन में वो महकता घर-बार ढूँढता हूँ।

स्वाधीनता मिली तो, आशाएँ भी बढ़ी थीं,
मैं भ्रष्ट आचरण में, आचार ढूँढता हूँ।

हैं देशभक्त सारे, मुहताज रोटियों को,
चोरों की अंजुमन में, सरकार ढूँढता हूँ।

कानून के दरों पर, इंसाफ बिक रहा है,
काजल की कोठरी में, दरबार ढूँढता हूँ।

दुनिया है बेदिलों की, ज़रदार पल रहे हैं,
बस्ती में बुज़दिलों की, दिलदार ढूँढता हूँ।

इंसानियत तो जलकर अब खाक हो गई है,
मैं राख में दहकता अंगार ढूँढता हूँ।

10 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह बहुत सशक्त रचना .....
    इंसानियत तो जलकर अब खाक हो गई है,
    मैं राख में दहकता अंगार ढूँढता हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. 'मैं भ्रष्ट आचरण में, आचार ढूँढता हूँ '
    हाँ हाँ ,क्यों नहीं - काजल की कोठरी में रोशनी नहीं जाती क्या !

    उत्तर देंहटाएं
  4. इंसानियत तो जलकर अब खाक हो गई है,
    मैं राख में दहकता अंगार ढूँढता हूँ।
    ....दुस्साहसी राख से भी निकल आते हैं बस तलाशने और तराशने जो होता है ..
    बहुत बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर ....परिवार तो स्वतः ही मिलता है आपका बस कहाँ है...

    उत्तर देंहटाएं