समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

बुधवार, 28 मई 2014

कितना अच्छा होगा जब....नव गीत ----डा श्याम गुप्त .....

कितना अच्छा होगा जब,
बिजली पानी न आयेगा |

                  ऐसी कूलर नहीं चलेंगे ,
                   पंखा नाच नचाएगा ||

छत की शीतल मंद पवन में,
सोने का आनंद मिलेगा |
जंगल-झाडे के ही बहाने,
 प्रातः सैर को  वक्त मिलेगा |

नदी कुआं और ताल नहर फिर,
जल क्रीडा का सेतु बनेंगे |
शाम-सुबह छत पर, क्रीडाओं-
चर्चाओं के दौर चलेंगे |

                   नहीं चलेंगे फ्रिज टीवी ,
                    डिश-केबुल न आयेगा ||

मिलना जुलना फिर से होगा,
नाते-रिश्तेदारों में |
उठाना बैठना घूमना होगा,
पास पडौसी यारों में |

घड़े सुराही के ठन्डे जल-
की सौंधी सी गंध मिलेगी |
खिरनी फालसा शरवत कांजी ,
लस्सी औ ठंडाई घुटेगी |

                   घर-कमरों में बैठे रहना,
                   शाम समय न भाएगा ||

भोर में मंदिर के घंटों की,
ध्वनि  का सुख आनंद मिलेगा |
चौपालों पर ज्ञान वार्ता,
छंदों का संसार सजेगा |

धन्यवाद है शासन का,
इस अकर्मण्यता का वंदन है
धन्य धन्य हम भारत वासी ,
साधुवाद है अभिनन्दन है |

                      लगता है अब तो यारो,
                      सतयुग जल्दी आजायेगा ||

5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (29-05-2014) को चर्चा-1627 पर भी है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. धन्यवाद शास्त्रीजी.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर , वह सब नहीं आ पायेगा और न ही वह सुकून जो पहले मिलता था कोई लौटा दे मेरे बीते हुए दिन। ……। रचना श्यामजी

    उत्तर देंहटाएं
  4. धन्यवाद महेंद्र जी...---- ख्यालों में ...क्या हर्ज़ है ..

    उत्तर देंहटाएं