समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

मंगलवार, 6 अगस्त 2013

हे प्रभु!--गीतिका व हरिगीतिका छंद ...डा श्याम गुप्त ...

                                       गीतिका व हरिगीतिका छंद
( ---- चार दिन से किसी  ने हरिगीतिका छंद की कोइ पोस्ट नहीं डाली....तो मैंने सोचा मैं ही पोस्ट कर देता हूँ |)

गीतिका छंद --- भी हरिगीतिका की ही भांति चार पदों वाला सममात्रिक व चारों पद सम् तुकांत या दो दो पद सम तुकांत वाला छंद  होता है इसमें प्रत्येक पद में २६ मात्राएँएवं अंत में लघु -गुरु या लघु-लघु होता है |

 उदाहरण----- प्रसिद्द प्रार्थना है -- जो सभी ने स्कूल में गायी  होगी .......

हे प्रभो आनंददाता ज्ञान हमको दीजिये |
शीघ्र सारे दुर्गुणों को दूर हमसे कीजिये |
लीजिये हमको शरण में हम सदाचारी बनें |
ब्रह्मचारी धर्म रक्षक वीर व्रत धारी बनें |


मेरे गीतिका व हरिगीतिका छंद -------

                         हे प्रभु !

              ---हरिगीतिका ...में ...
हे प्रभु! हमारे जन्मदाता प्राणत्राता आप हो |  = २८ मात्रा ...I S
हैं अल्पज्ञानी हम मनुज सब ज्ञान दाता आप हो |
भूलें विषयरत आपको हम आप मत बिसराइये|
हो कृपा सागर यदि प्रभो तो कृपा ही बरसाइये ||

हे नाथ ! इस संसार के हो आपही कारन करन |    =  २८ मात्रा...III
सब जग कृपा से आपकी ही, आपही तारन तरन |
यह जगत माया आपकी ही आप नित धारन धरन|
कट जायं भवदुख नित करे यदि आपका मानव मनन ||

-------- इसे   गीतिका    में  भी लिखा जा सकता है....

प्रभु  हमारे जन्मदाता प्राणत्राता आप हो |    = २६ मात्रा , I S
अल्पज्ञानी हम मनुज सब ज्ञान दाता आप हो
भूलें विषयरत  हम प्रभो!,  आप मत बिसराइये|
 कृपा सागर  प्रभो ! हम पर  कृपा ही बरसाइये ||


 नाथ ! इस संसार के हो आपही कारन करन |    =  २६ मात्रा  ...I I
 जग कृपा है  आपकी ही, आप ही तारन तरन |
 जगत माया आपकी है  आप नित धारन धरन|
कट जायं भवदुख  यदि करे आपका मानव मनन ||








4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज बुधवार (07-08-2013) के रीयल्टी शो पाक का, आतंकी भी फेल :चर्चा मंच 1330 में मयंक का कोना पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्रह्मचारी धर्म रक्षक वीर व्रज धारी बनें.....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद नीतू जी....

      यह ब्रज धारी नहीं व्रतधारी है...

      हटाएं