समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

गुरुवार, 24 जुलाई 2014

मित्रों आज एक नवगीत 
कैसी    सजी     आ     रही 
बालीबुड से चली  आ  रही।  
अनुपम    सुगन्ध    लिए 
वर   आभूषण   से   सजी
दिव्य    सुन्दरता   लेकर 
वह    चली      आ     रही
कैसी    सजी     आ     रही 
बालीबुड से चली  आ  रही।
अनेक     पुष्पों   से   सजी   
मन्द  -  मन्द    मुस्काती 
जैसे   कुछ     गुनगुनाती
तनिक   आवाज  न  रही  
कैसी    सजी     आ     रही 
बालीबुड से चली  आ  रही।
मैं अपलक उसे  देख  रहा 
उसके  तन  व  चाल   को
मगर    वह   कैसी     थी 
मेरी  तरफ  देख  न  रही
कैसी    सजी     आ     रही 
बालीबुड से चली  आ  रही।
वह    कोई    और     नहीं
एक    कार     थी    सजी  
सुन्दर   वर   को   लेकर
मेरी तरफ चली आ रही 
कैसी    सजी     आ     रही 
बालीबुड से चली  आ  रही।   
http://shakuntlamahakavya.blogspot.com/2014/07/blog-post_24.html


4 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना शनिवार 26 जुलाई 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. कैसी सजी आ रही
    बालीबुड से चली आ रही।
    ..सबकी नज़र बालीबुड पर उसकी नज़र सब पर

    बहुत बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं