समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

रविवार, 20 जुलाई 2014

एक पुराना गीत
प्रेम  के  अश्रु  बिन्दु लेकर,
भीगी   पलकों   के  भीतर,
हम  तो   तुम्हें   ढूढ़ते   हैं ,
हम    तो   तुम्हें  ढूढ़ते   हैं,
चाहते हैं तुम  मिल  जाओ,
मुझसे    दूर    नहीँ   जाओ,
दूर  कहीं   तुम   जाते   हो,
मुझको   बहुत  सताते  हो,
हम   तो   तुम्हें   ढूढ़ते   हैं,
हम   तो   तुम्हें   ढूढ़ते    हैं,
अति अशान्त मन हो जाता,
''प्रकाश'' नहीं है   सो   पाता,
अँधेरा   जीवन    में   आता,
राह    कोई     नहीं     पाता,
हम   तो   तुम्हें   ढूढ़ते    हैं,
हम   तो   तुम्हें    ढूढ़ते   हैं।
 http://shakuntlamahakavya.blogspot.com/2014/07/blog-post_20.html



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें