समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

बुधवार, 26 फ़रवरी 2014

आमंत्रण--अखिल भारतीय अगीत परिषद् का साहित्यकार दिवस एवं साहित्यकार सम्मलेन ..डा श्याम गुप्त..

                                                                 
                      अखिल भारतीय अगीत परिषद् का साहित्यकार दिवस एवं साहित्यकार सम्मलेन ..०१-३-२०१४  रविवार सायंकाल ५ बजे  स्थानीय गांधी भवन संग्रहालय , लखनऊ  के सभागार में आयोजित किया जा रहा है ...आप सभी आमंत्रित हैं......


2 टिप्‍पणियां:

  1. जेहि सभा मह बिरध नहि, तेइ सभा न अहाहि ।
    जोइ धर्म बचन न कहे, बड़े बिराध सो नाहि ।११०७।
    ----- ।। महाभारत ॥ -----
    भावार्थ : -- "जिस सभा में बड़े-बूढ़े नहीं है, वह सभा नहीं, जो धर्म की बात न कहे, वे बड़े-बूहे नहीं "

    उत्तर देंहटाएं