समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

सोमवार, 17 फ़रवरी 2014

"ग़ज़ल-गुरूसहाय भटनागर बदनाम" (प्रस्तोता-डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

दर्दे-मोहब्बत

मोहब्बत दर्द बन जाएगी ये सोचा न था हमने
भरी काँटों की राहों में बनाया आशियाँ हमने

वह मंजि़ल तक हमें लाकर अकेला छोड़ जाएँगे
बनाया अपने दिल का फिर उन्हें क्यों राज़दाँ हमने

भुलाने से न भूले हम जो कसमें उसने खाई थीं
सनमखानों में भी अक्सर उन्हें ढूँढ़ा किया हमने

अँधेरों में मेरी वो रोशनी बनकर के आए थे
ग़मों की आँधियों में भी सजाया आशियाँ हमने

हवाएँ रुख़ बदल देतीं तो शाखें बच गई होतीं
उन्हीं शाख़ों की ज़द में क्यों बनाया आशियाँ हमने

हमें ‘बदनाम’ होने का ज़रा भी ग़म नहीं है अब
चलो यह हक मोहब्बत का अदा तो कर दिया हमने
(गुरूसहाय भटनागर बदनाम)

5 टिप्‍पणियां:

  1. हमें ‘बदनाम’ होने का ज़रा भी ग़म नहीं है अब
    चलो यह हक मोहब्बत का अदा तो कर दिया हमने

    बहुत खूब
    बेहतरीन गजल !
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब महोदय ,,,,आपके ब्लॉग पर आकर - जाना अच्छा नहीं लगता ,,पर क्या करे सब्स्क्राइब करने का कोना नहीं मिलता ,manoj.shiva72@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं