समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

शनिवार, 22 फ़रवरी 2014

"ग़ज़ल-वस्ल की शाम-गुरूसहाय भटनागर बदनाम" (प्रस्तोता-डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

महकी-महकी सी है वादियों की सबा
शौक़ से आ के इसका मज़ा लीजिए

बन गई मैं ग़ज़ल आपके सामने
चाहे जैसे मुझे गुनगुना लीजिए 

मय को पीकर अगर दिल मचलने लगे
अपना दिलबर हमें फिर बना लीजिए

ये बहारों का रँग, हुस्न की तिश्नगी
प्यास नज़रों की अपनी बुझा लीजिए

मैं बियाबां में हूँ ख़ुशनुमा इक कली
मुझको जैसे जहाँ हो सजा लीजिए

कल तलक़ आरज़ूएँ तो ‘बदनाम’ थीं
वस्ल की शाम है दिल लुटा लीजिए
(गुरूसहाय भटनागर बदनाम)

2 टिप्‍पणियां:

  1. मैं बियाबां में हूँ ख़ुशनुमा इक कली
    मुझको जैसे जहाँ हो सजा लीजिए

    बहुत उम्दा गजल
    new postकिस्मत कहे या ........
    New post: शिशु

    उत्तर देंहटाएं