समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

शनिवार, 4 मार्च 2017

स्त्रियों के वस्त्र व पुरुष की सोच-----डा श्याम गुप्त




प्रायः यह कहा जाता है कि कपडे पहनने की बात लोग स्त्रियों पर छोड़दें, हमारी इच्छा , पुरुष अपनी सोच बदलें ----परन्तु प्रत्येक कार्य का एक तार्किक कारण होता है न---- निम्न चित्र देखें जहां तीन पुरुष सम्पूर्ण कपडे पहने हुए हैं तो उपस्थित महिला अध् नंगे वस्त्रों में क्यों है --- क्या किसी को इसमें कोई तर्क या यथोचित उत्तर नज़र आता है |

Comment

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें