समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

रविवार, 30 जून 2013

“कुछ फुटकर दोहे मेरे भी” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

चार चरण दो पंक्तियाँ, लगता ललित-ललाम।
इसीलिए इस छन्द ने, पाया दोहा नाम।१।

लुप्त हो गया काव्य का, नभ में सूरज आज।
बिना छन्द रचना करें, ज्यादातर कविराज।२।

बिन मर्यादा यश मिले, छन्दों का क्या काम।
पद्य बताकर गद्य को, करते हैं बदनाम।३।

चार दिनों की ज़िन्दग़ी, काहे का अभिमान।
धरा यहीं रह जायेगा, धन के साथ गुमान।४।

प्यार जगत में छेड़ता, मन वीणा के तार।
कुदरत ने हमको दिया, ये अमोल उपहार।५।

प्यार नहीं है वासना, ये तो है अनुबन्ध।
प्यार शब्द से जुड़ा है, तन-मन का सम्बन्ध।६।

चटके दर्पण की कभी, मिटती नहीं दरार।
सिर्फ दिखावे के लिए, ढोंगी करता प्यार।७।

ढाई आखर प्यार का, देता है सन्ताप।
हार-जीत के खेल में, बढ़ जाता है ताप।९।

मुखिया की चलती नहीं, सबके भिन्न विचार।
ऐसा घर कैसे चले, जिसमें सब सरदार।१०।

11 टिप्‍पणियां:

  1. अप्रतिम...
    है तो चिल्हर
    पर है कीमती
    इसका एक-एक शब्द

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. दोहा बचपन से सुनता पढ़ता आ रहा हूँ इसलिये दोहा पढ़कर जो आनन्‍द मिलता है वह व्‍यक्‍त करना भी कठिन है।
    आज के दोहे पढ़कर आनंदातिरेक की स्थिति है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूबसूरत ,इनमें जीवन के सार छूपें है
    सादर
    भारती दास

    उत्तर देंहटाएं

  6. सुंदर प्रस्तुति...
    मुझे आप को सुचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी का लिंक 05-07-2013 यानी आने वाले शुकरवार की नई पुरानी हलचल पर भी है...
    आप भी इस हलचल में शामिल होकर इस की शोभा बढ़ाएं तथा इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और नयी पुरानी हलचल को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी हलचल में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान और रचनाकारोम का मनोबल बढ़ाएगी...
    मिलते हैं फिर शुकरवार को आप की इस रचना के साथ।
    जय हिंद जय भारत...
    मन का मंथन... मेरे विचारों कादर्पण...

    उत्तर देंहटाएं
  7. दो पक्तियों में दमदार बात कहने की शक्ति तो दोहे में ही है
    latest post झुमझुम कर तू बरस जा बादल।।(बाल कविता )

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बहुत बधाई आदरणीय शास्त्री जी बहुत सुन्दर दोहे सभी एक से बढ़ कर एक बहुत कुछ कहते हुए अंतिम दो हे के लिए तो बारम्बार बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. kavya vidha ka doha to,hai hi mooladhar.kam shabdo me kar sake,apane vyakt vichar.

    उत्तर देंहटाएं