समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

शनिवार, 14 नवंबर 2015

बाल दिवस पर ----- एक बाल कविता --- बड़ों की सीख.... डा श्याम गुप्त

बाल दिवस पर ----- एक बाल कविता ---दीप दिवाली के ...


हमें याद है दीपावलि पर
हमने दीप जलाए थे |
सुन्दर सुन्दर दीप जल रहे
सबके मन को भाये थे |



दीपक से मत हाथ लगाना
कहा पिताजी ने था पर |
सुनकर उनकी बात भी मैंने,
कुछ भी इसकी की न फिकर |


लगा खेलने मैं दीपक से ,
मैंने उसे खेल समझा |
हाय एक तब गिरा पैर पर,
पैर जला और कुछ झुलसा |


नहीं आग से अब खेलूंगा
बड़ों की आज्ञा मानूंगा |
निश्चय तुरत किया फिर मैंने
अपनी कभी न ठानूंगा |


बड़ों की आज्ञा जो न मानते
उनका यही हाल होता है |
चलें पूर्वजों की आज्ञा पर
वही सदा उन्नत होता है ||

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें