समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

गुरुवार, 8 अक्तूबर 2015

ईश्वर के कानून !

ईश्वर के हर नियम-कानून है अलिखित
तोड़ने पर मिलती दण्ड, है यह निश्चित |
लाठी है अदृश्य उनकी, दिखाई नहीं देती
मारते हैं मुजरिम को, आवाज़ नहीं होती |
कौनसा नियम तोड़ने पर, दण्ड कौनसा है
इसका लेखा जोखा, केवल ईश्वर के पास है |
देकर एक शरीर, जीव को धरा पर भेजा है
दण्ड का पहला प्रहार, शरीर पर पड़ता है |
रोग के विषाणु भी, एक सूक्ष्म जीवाणु है
विशाल शरीर में घुसकर, रोग पैदा करता है |
दवाई के असर से, सूक्ष्म जीव मरता है
सूक्ष्म जीव विशाल का प्राण हर लेता है |
कैसा नियम बनाया रब ने, कुछ समझ न आये
चींटी से परेशां हाथी, चाहकर कुछ न कर पाये |

कालीपद ‘प्रसाद’

© सर्वाधिकार सुरक्षित    

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें