समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

गुरुवार, 8 अक्तूबर 2015

साहित्यकारों द्वारा पुरस्कार लौटाना----एक व्यर्थ का कर्म..... डा श्याम गुप्त

                                 



              साहित्यकारों जन सेवकों को राजनीतिक कृतित्वों में नहीं पड़ना चाहिए, साहित्यकार सत्यान्वेषी होता है अतः सम्पूर्ण सत्य जानने के पश्चात ही कोइ कृतित्व करना चाहिए , पूर्वाग्रह से नहीं --- मेरे विचार से ये लोग थे ही नहीं पुरस्कार के लायक ....जोड़ तोड़ से हासिल करने वालों में थे ....ये कार्य स्वयं को पुनः लोगों की नज़रों में लाना है ..स्वयं .प्रचार का एक तरीका.......क्या कैलाश सत्यार्थी भी नोबल पुरस्कार लौटायेंगे .... ....देखिये एस शंकर का आलेख ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें