समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

गुरुवार, 15 जनवरी 2015

जहरीला जहर ...डा श्याम गुप्त...



जहरीला जहर
          उत्तर प्रदेश में जहरीली शराव पीने से तमाम मौतें हुईं | यस शोक का एवं कठोर आवश्यक कार्यवाही करने का समय तो है ही, साथ ही साथ यह भी की अभी तक नकली शराव बनाने व बेचने वालों पर रोक क्यों नहीं लगाई गयी | छोटी छोटी भारतीय प्राचीन सांस्कृतिक बातों पर चीखने चिल्लाने वाले समाजवादी, साम्यवादी संस्थाएं व उदारवादी एवं महिला संस्थाएं क्या कर रहीं थीं जो बात यहाँ तक आ  पहुँची | स्थानीय महिलायें क्या कर रहीं थी जिन्होंने अपने पुरुष वर्ग आदि को शराव जैसा जहर पीने से नहीं रोका  |
          शराव स्वयं में ही एक स्वयं सिद्ध जहर है उसका क्या असली होना क्या नकली होना | आखिर उन लोगों ने शराव पी ही क्यों | लोग शराव पीते ही क्यों हैं | वस्तुतः तो ऐसे लोगों से हमदर्दी होनी ही नहीं चाहिए | शराव पीना स्वयं में ही एक अवगुण, सामाजिक बुराई एवं आपराधिक कृत्य है | शराब का क्या नकली होना क्या असली होना | जब तक लोग स्वयं शराब पीना बंद नहीं करेंगे एवं शासन व समाज कठोरता से इस बुराई का विरोध नही करेगा ये घटनाएँ होती ही रहेंगीं |
         दोष पीने वालों का है, न शराब का न नकली का |

1 टिप्पणी:

  1. सार्थक प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (17-01-2015) को "सत्तर साला राजनीति के दंश" (चर्चा - 1861)7 पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं