समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

मंगलवार, 9 दिसंबर 2014

विस्मित हूँ !



विस्मित हूँ देख-देखकर प्रकृति की नज़ारे
चमकता सूर्य ,चन्द्र और भोर के उज्ज्वल तारे |
दिनभर चलकर दिनकर,श्रान्त पहुँचता अस्ताचल,
अलसाकर सो जाता , ओड़कर निशा का आँचल |
चाँद तब आ जाता नभ में ,फैलाने धवल चाँदनी,
तमस भाग जाता तब , हँसने लगती है रजनी |



निस्तब्ध निशा में चुमके से, आ-जाती तारों की बरात
झिलमिलाते,टिमटिमाते, आँखों-आँखों में करते हैं बात |
तुनक मिज़ाज़ी मौसम है, कहते हैं- मौसम बड़ी बे-वफ़ा,
उनकी शामत आ-जाती है ,जिस पर हो जाता है खफ़ा |


सूरज हो या चाँद हो, या हो टिमटिमाते सितारे,
अँधेरी कोठरी में बन्द कर देता है, लगा देता है ताले |
रिमझिम कभी बरसता है ,कभी बरसता है गर्जन से
बरसकर थम जाता है ,शांत हो जाता है आहिस्ते से |
कितने अजीब ,कितने मोहक ,लगते है सारे प्यारे,
विस्मित हूँ, देख-देखकर प्रकृति की नज़ारे |




सिंदूरी सूरज के स्वागत में व्याकुल हैं ये फूल,
 रंग-बिरंगी  वर्दी पहनकर, मानो खड़े हैं सब फूल|
नीला आसमान प्रतिबिंबित, जहाँ है बरफ की कतारें,
विस्मित हूँ देख देखकर प्रकृति की नज़ारे |

फागुन में होली खेलते हैं लोग ,रंगीन होता है हर चेहरा,
प्रकृति खेलती होली , रंगीन होता है पर्वत का चेहरा |
प्रकृति मनाती होली दिवाली, मिलकर सब चाँद सितारे,
विस्मित हूँ देख-देखकर प्रकृति की नज़ारे |

कालीपद "प्रसाद"
(c) 
सभी चित्र गूगल से साभार

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें