समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

सोमवार, 29 सितंबर 2014

“ग़ज़ल-वही शायर कहाता है” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक)


खुदा सबके लिए ही, खूबसूरत जग बनाता है।
मगर इस दोजहाँ में, स्वार्थ क्यों इतना सताता है?

पड़ा जब काम तो, रिश्ते बनाए दोस्ती जैसे,
निकल जाने पे मतलब, दूटता हर एक नाता है।


है जब तक गाँठ में ज़र, मान और सम्मान है तब तक,
अगर है जेब खाली तो, जगत मूरख बताता है।


कहीं से कुछ उड़ा करकेकहीं से कुछ चुरा करके,
 
सुनाता जो तरन्नुम में, वही शायर कहाता है।


जरा बल हुआ कम तो, तिफ्ल भी होने लगे तगड़े,
मगर बलवान के आगे, खुदा भी सिर झुकाता है।


शमा के "रूप" को सज़दा, किया करते हैं परवाने,
अगर लौ बुझ गयी तो, एक भी आशिक न आता है।

6 टिप्‍पणियां: