समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

रविवार, 15 जून 2014

“हम उस माँ को करते प्यार!” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

तस्वीर
जिसने दिया हमें आकार!
हम उस माँ को करते प्यार!

पीड़ा को सहकर जिसने दुनिया में हमें उतारा,
माता को अपना शिशु सबसे ज्यादा होता प्यारा,
कोटि-कोटि माँ का आभार!
हम उस माँ को करते प्यार!!

ममता के जल से धो-धोकर जिसने हमें सँवारा,
कदम-कदम पर जिस माता ने हमको दिया सहारा,
जननी का हम पर उपकार!
हम उस माँ को करते प्यार!!

3 टिप्‍पणियां: