समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

रविवार, 13 अप्रैल 2014

ईशोपनिषद के द्वितीय मन्त्र .... के द्वितीय भाग ... ' एवंत्वयि नान्यथेतो S स्ति न कर्म लिप्यते नरे ||'.... का काव्य-भावानुवाद .... डा श्याम गुप्त.....

ईशोपनिषद के द्वितीय मन्त्र .... 

                                               कुर्वन्नेवेह कर्माणि  जिजीविषेच्छतम समा |                                                   एवंत्वयि नान्यथेतो S स्ति न कर्म लिप्यते नरे ||'

के द्वितीय भाग ... ' एवंत्वयि नान्यथेतो S स्ति न कर्म लिप्यते नरे ||'.... का काव्य-भावानुवाद ....


सदकर्मों की इच्छा ले यदि ,
मानव, सेवा-धर्म निभाये |
जीवन अल्प हो चाहे जितना ,
शत शत शरद का जीवन पाए |

इसी भावयुत कर्म किये जा ,
यही एक बस उचित पंथ है |
अन्य न जीवन राह है कोई ,
यह जीवन का सत्य मन्त्र है |

कन्टकीर्ण है राह कर्म की,
पग पग पर बाधाएं मग में |
जाने कितने तृष्णा-लालच ,
के पल आते हैं इस पथ में |

कर्म लिपट ही पाते हैं कब,
उससे जो त्यागी अलिप्त है|
लिप्सा तृष्णा उसे बांधती,
अपकर्मों में नर जो लिप्त है |

कर्म भाव के सत्य मार्ग पर,
चलता दृड़ता से जो कोई |
लिप्त न होता उसे न होती ,
कर्मों में आसक्ति न कोई |

लिप्सा लालच स्वार्थ भावना,
नहीं लिपट पाती तन मन से |
ईश्वर प्राप्ति, मोक्ष क्या होगी,
सुन्दर उस पावन जीवन से ||





                                 

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (14-04-2014) के "रस्में निभाने के लिए हैं" (चर्चा मंच-1582) पर भी होगी!
    बैशाखी और अम्बेदकर जयन्ती की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं