समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

मंगलवार, 5 जनवरी 2016

मेरे ..श्रृंगार व प्रेम गीतों की शीघ्र प्रकाश्य कृति ......"तुम तुम और तुम". से ....प्रथम गीत ------ इन गीतों को मुखरित करदो ....डा श्याम गुप्त

.मेरे ..श्रृंगार व प्रेम गीतों की शीघ्र प्रकाश्य कृति ......"तुम तुम और तुम". से ....प्रथम गीत ------ 

    इन गीतों को मुखरित करदो ....



मेरे गीत तुम्हारा वंदन इन गीतों को मुखरित करदो |
निज उष्मित अधरों के स्वर दे इन गीतों में मधु रस भरदो |
ह्रदय-पत्र पर चले लेखनी पायल के स्वर की मसि भरदो |
                                                              
                                                                  इन गीतों को मुखरित करदो |
                                                                 पायल के स्वर की मसि भरदो ||

मेरे गीत तुम्हारे मन के स्वर की मधुर कल्पनाएँ हैं|
तेरे मृदुल गात की अनुपम सुकृत सुघर अल्पनायें हैं |
इन गीतों में प्रीती रंग भर इन्द्रधनुष प्रिय विम्बित करदो |
                                                            इन गीतों में मधु रस भरदो |

                                                           इन्द्रधनुष प्रिय विम्बित करदो|| |

इन गीतों में प्रियतम तेरी बांकी चितवन मृदू मुस्कानें |
मादक यौवन की झिलमिल है देह-यष्टि की सुरभित तानें |
खिलती कलियों के सौरभ की खिल खिल खिल मुस्कानें भरदो |


                                                       खिल खिल खिल मुस्कानें भरदो | 
                                                        इन गीतों को मुखरित करदो ||


इन गीतों में विरह-मिलन के विविध रंग रूपक उपमाएं |
पल पल रंग बदलते जीवन-जग की विविध व्यंजनायें |
मधुर रागिनी सुरभित साँसों की दे इनमें जीवन भरदो |
                                                      इन गीतों में जीवन भरदो|

                                                      इन गीतों को मुखरित करदो ||

मेरे गीत तुम्हारी ही तो स्वर सरगम के अनुयायी हैं |
तेरी पगढ़वानी, नूपुर रुनझुन अनहद नाद के अध्यायी हैं |
स्वस्ति वचन, मुकुलित स्वर देकर इन गीतों में अमृत भरदो |
                                                             इन गीतों में अमृत भरदो|
                                                        इन गीतों को मुखरित करदो ||

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें