समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

शनिवार, 9 मई 2015

गज़ल्नुमा कविता


पत्नी एक इंसान है ,उसे देवी मत बनाइये
पति भी हाड़-मांस का है,उसे देव न बनाइये |

इंसान है तो उसे इंसान ही रहने दीजिये
न उसे राक्षस, न दानव ,न देव बनाइये |

देवी बनाकर पूजा नारी को, फिर किया छल
परदे के पीछे उसको, शोषण का शिकार न बनाइये |

पुत्र होना या पुत्री होना ,इसका जिम्मेदार है पुरुष

दकियानुस बनकर ,निर्दोष औरत को दोषी न बनाइये |


गर दोष नारी में है ,दोष पुरुष में भी है
दोषारोपण में जीवन को नरक न बनाइये |

कोई नहीं पूर्ण इस जग में,नारी हो या पुरुष हो 
पूर्णता के चक्कर में ,जीवन को दुखी न बनाइये |

कालीपद 'प्रसाद' 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें