समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

शुक्रवार, 3 अप्रैल 2015

श्याम सवैया छंद.. डा श्याम गुप्त ....

                        मेरे द्वारा नव-सृजित छंद....श्याम सवैया ......जो छः पंक्तियों का  सवैया  छंद है जिसमें २२ से २६ तक वर्ण होसकते हैं ....


श्याम सवैया छंद........२२ वर्ण  ...छ पंक्तियाँ ) )

 
 जन्म मिले यदि......

जन्म मिलै यदि मानुस कौतौ भारत भूमि वही अनुरागी |
पूत बड़े नेता कौं बनूँनिज हित लगि देश की चिंता त्यागी |
पाहन ऊंचे मौल सजूँनित माया के दर्शन पाऊं सुभागी |
जो पसु हों तौ स्वान वहीमिले कोठी औ कार रहों बड़भागी |
काठ बनूँ तौ बनूँ कुर्सीमिलि  जावै मुराद मिले मन माँगी |
श्याम' जहै ठुकराऊं मिलेया फांसी या जेल सदा को हो दागी ||

 
वाहन हों तौ हीरो होंडाचलें बाल युवा सबही सुखरासी |
बास रहे दिल्ली बैंगलूरन चाहूँ अजुध्या मथुरा न कासी |
चाकरी प्रथम किलास मिले, सत्ता के मद में चूर नसा सी  |
पत्नी मिलै संभारै दोऊ, घर-    चाकरी बात न टारै ज़रा सी |
श्याम' मिलै बँगला-गाडी, औ दान -दहेज़ प्रचुर धन रासी |
जौ कवि हों तौ बसों लखनऊ, हर्षावै गीत अगीत विधा सी

3 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (04-04-2015) को "दायरे यादों के" { चर्चा - 1937 } पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर व सार्थक प्रस्तुति..
    शुभकामनाएँ।
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर सार्थक सृजन, बधाई

    उत्तर देंहटाएं